BJPs Keshav Prasad Maurya took U-turn after raising Ram temple issue

बीजेपी ने उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर राम मंदिर मुद्दा उठा दिया है। पार्टी ने कहा कि अगर आगामी यूपी चुनावों में बीजेपी पूर्ण बहुमत से जीतती है तो अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा। पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रमुख केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, ‘राम मंदिर आस्था का सवाल है, लेकिन फिलहाल कोई मुद्दा नहीं है। उन्होंने कहा कि राम लला का भव्य मंदिर दो महीने में नहीं बनने जा रहा है। इसका निर्माण चुनावों के बाद किया जाएगा, जब बीजेपी पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आएगी।’ इस दौरान उन्होंने अखिलेश यादव पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री न तो पिछड़ा वर्ग के साथ हैं और न ही दलितों के साथ। मौर्य ने कहा, ‘वह सिर्फ विश्वासघात करते हैं।’ अखिलेश के बारे में मौर्य का यह बयान तब आया है जब इलाहाबाद हाई कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि 17 अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) समूहों से जुड़े लोगों को नया जाति प्रमाण पत्र नहीं जारी किया जाए। समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन के बारे में पूछे जाने पर मौर्य ने कहा, ‘एसपी डूबता जहाज है और कांग्रेस का जहाज काफी पहले डूब चुका है। अगर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) भी इसमें शामिल होती है तब भी वह भी इसे बचाने में सक्षम नहीं होगी।’ आपको बता दें कि 3 जनवरी को केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा था कि भाजपा उत्तर प्रदेश में विकास के अजेंडे पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी राम मंदिर जैसे मुद्दों पर चुनाव नहीं लड़ेगी। ऐसे में केशव प्रसाद मौर्या के राम मंदिर पर दिए बयान के क्या मायने निकाले जाएं।....