क्यों छोड़ रहे हैं करोड़पति इण्डिया
क्यों छोड़ रहे हैं करोड़पति इण्डिया!

यह बात किसी के गले शायद ही उतरे कि एक ओर दुनिया का कोई भी देश कारोबारी सुगमता के साथ सुशासन के माध्यम से देश में समृद्धि दर बढ़ाने में लगा हो

देशबन्धु
2018-02-19 04:35:04
पूर्ण विकसित भारत बनाने की चुनौतियां
पूर्ण विकसित भारत बनाने की चुनौतियां

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नया भारत निर्मित हो रहा है। मोदी के शासनकाल में यह संकेत बार-बार मिलता रहा है कि हम विकसित हो रहे हैं

देशबन्धु
2018-02-19 04:29:26
देश में तेजी से बढ़ रही आर्थिक असमानता
देश में तेजी से बढ़ रही आर्थिक असमानता

हिन्दू राष्ट्र के अधीन राज्य और अंबेडकरवादी प्रजातांत्रिक राज्य के बीच चल रहा मुकाबला 

देशबन्धु
2018-02-19 04:23:44
महिला अस्मिता  दर्पण झूठ न बोले
महिला अस्मिता : दर्पण झूठ न बोले

हमारे देश में नारी अस्मिता की बातें करना भी हमारे समाज के लोगों द्वारा अपनाए जाने वाले दोहरे चरित्र व दोहरे मापदंड का ही सबसे मज़बूत उदाहरण है

देशबन्धु
2018-02-12 02:17:13
धर्म और सम्प्रदाय के नाम पर राजनीति
धर्म और सम्प्रदाय के नाम पर राजनीति

श्रेष्ठता की मानसिकता हमारी साम्प्रदायिक भावना को उभारने के लिए उत्तरदायी 

देशबन्धु
2018-02-12 02:12:36
भारतीय राजनीति का हिन्दुत्व काल
भारतीय राजनीति का हिन्दुत्व काल

2014 के बाद से भारत की राजनीति में बड़ा शिफ्ट हुआ है जिसके बाद से यह लगभग तय सा हो गया है कि देश की सभी राजनीतिक पार्टियों को अपनी चुनावी राजनीति ...

देशबन्धु
2018-02-12 02:07:38
महिमामंडन गोडसे का
महिमामंडन गोडसे का

महात्मा गांधी के हत्यारों के महिमामंडन की जो प्रवृति भारतीय समाज में अभी भी जीवित है वह निश्चित रूप से महात्मा गांधी के शांति,सद्भाव,सांप्रदायिक ...

देशबन्धु
2018-02-12 02:04:47
अंधेरा गहरा रहा है दीप जलाए रखिए 
अंधेरा गहरा रहा है दीप जलाए रखिए! 

गांधी जी की हत्या के सात दसक गुजर चुके हैं। आजकल देश में संघ समर्थित भाजपा की सरकार है। फिर भी इनकी मजबूरी है कि वे न चाहते हुए भी 'गांधी' का ही ...

देशबन्धु
2018-01-30 02:10:11
आत्म बलिदान बापू का
आत्म बलिदान बापू का

समाज को भीड़ बना कर इंसानों को पागलों की जमात बना कर जब सत्ता और संपत्ति का शिकार किया जा रहा हो, तब एक आदमी के बस का बचता ही क्या है

देशबन्धु
2018-01-30 02:06:37
हम समझ नहीं पाए गांधी प्रणीत स्वराज्य की संकल्पना को 
हम समझ नहीं पाए गांधी प्रणीत स्वराज्य की संकल्पना को 

गांधी प्रणीत स्वराज्य या रामराज्य की संकल्पना को हम समझ नहीं पाए। राजनैतिक स्वतंत्रता प्राप्त होने पर भी धार्मिक आर्थिक, सामाजिक गुलामी से मनुष्य...

देशबन्धु
2018-01-30 02:03:43
सब्सिडी थी ही कहां जो खत्म हो गई
सब्सिडी थी ही कहां, जो खत्म हो गई

सरकार, सब्सिडी का पैसा मुस्लिमों की शिक्षा, सशक्तीकरण और कल्याण पर खर्च करे

देशबन्धु
2018-01-29 01:33:09
हज सब्सिडी हटाकर अच्छा किया
हज सब्सिडी हटाकर अच्छा किया

एक धर्मनिरपेक्ष राज्य में सरकार से यह उम्मीद नहीं की जाती है कि वह हज या तीर्थ यात्राओं के लिए सरकारी कोष से यात्रियों की यात्रा पर पैसा खर्च करे

देशबन्धु
2018-01-29 01:25:57
क्या यह मुस्लिम महिलाओं का तुष्टिकरण नहीं है
क्या यह मुस्लिम महिलाओं का तुष्टिकरण नहीं है?

केवल मुस्लिम महिलाओं के लिए फ़िक्रमंद होने का दिखावा न करें

देशबन्धु
2018-01-29 01:22:40
आज भी गुरबत से नहीं उबरे हैं अन्नदाता 
आज भी गुरबत से नहीं उबरे हैं अन्नदाता 

पिछड़ती और धीमी पड़ती अर्थव्यवस्था के चलते सरकार ने सभी किसानों का ऋण माफ  करने का जोखिम नहीं लिया जबकि मौजूदा समय में ग्रामीण और कृषि क्षेत्र सर्व...

देशबन्धु
2018-01-22 01:16:18
क्या केवल गरीब ही है सबसे बड़ा मुजरिम
क्या केवल गरीब ही है सबसे बड़ा 'मुजरिम'?

गत् 70 वर्षों से देश में लोकतंत्र के होने के बावजूद खासतौर पर सत्ता विरोधी दलों द्वारा यही बताने व जताने की कोशिश की जाती है

देशबन्धु
2018-01-22 01:11:24
चंद हाथों में सिमटी समृद्धि 
चंद हाथों में सिमटी समृद्धि 

आजादी के साथ ही सार्वजनिक क्षेत्र के माध्यम से देश के विकास की जो आर्थिक-सामाजिक संतुलन की आधारशिला रखी गई, वह सात दशक तक पहुंचते-पहुंचते ही चरमरा गयी

देशबन्धु
2018-01-22 01:04:54
शीर्ष न्यायालय में ठिठका लोकतंत्र
शीर्ष न्यायालय में ठिठका लोकतंत्र

पारदर्शी समाधान निकालकर न्यायालय और न्यायाधीशों का सम्मान बहाल करें

देशबन्धु
2018-01-15 01:04:25
राष्ट्र की आत्मा है भारतीय संविधान
राष्ट्र की 'आत्मा' है भारतीय संविधान

हमारे देश का लोकतंत्र अथवा गणराज्य सामाजिक,आर्थिक और राजनैतिक रूप से 'सर्वे भवंतु सुखिन: सर्वे संतु निरामया:' भारतीयता की आत्मा के इस  मूल सिद्धा...

देशबन्धु
2018-01-15 01:00:04
राज्यसभा की प्रासंगिकता पर सवाल क्यों
राज्यसभा की प्रासंगिकता पर सवाल क्यों?

आज देश में अनेक कानून मात्र राज्यसभा के कारण नहीं बन रहे हंै जिससे दिन प्रतिदिन विधि व्यवस्था में गिरावट आ रही है। राज्यसभा विकास की बजाय अवरोध क...

देशबन्धु
2018-01-15 00:54:42
भीमा गाँव की हिंसा  भारत को बाँटने की साजिश
भीमा गाँव की हिंसा : भारत को बाँटने की साजिश

अनावश्यक तरीके से भड़की इस जातीय हिंसा में करोड़ों स्वाहा हो गया।  आखिर यह सब क्यों हुआ । इसका असली गुनहगार कौन है

देशबन्धु
2018-01-08 00:12:24
कौन सुनेगा दलितों की आवाज 
कौन सुनेगा दलितों की आवाज? 

जानबूझकर दलितों की अस्मिता की लड़ाई को देशद्रोह के रूप में पेश किया गया

देशबन्धु
2018-01-08 00:08:27