स्कूली शिक्षा के समक्ष चुनौती गुणवत्ता की
स्कूली शिक्षा के समक्ष चुनौती गुणवत्ता की

स्कूलों में दर्ज संख्या में जबर्दस्त वृद्धि के चलते पिछले कुछ दशकों में अध्यापक शिक्षा में भी जबर्दस्त वृद्धि हुई है

देशबन्धु
2017-10-16 02:35:24
उच्च गुणवत्ता वाले तकनीकी शिक्षकों की भी भारी कमी
उच्च गुणवत्ता वाले तकनीकी शिक्षकों की भी भारी कमी

तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर चुके दक्ष लोगों के सामने भी नौकरियों की गंभीर समस्या है

देशबन्धु
2017-10-16 02:25:40
सुधार के नाम पर शिक्षा में निरंतर प्रयोग
सुधार के नाम पर शिक्षा में निरंतर प्रयोग

समूचे देश में विद्यालयीन शिक्षा की दशा बहुत चिन्ताजनक है

देशबन्धु
2017-10-16 02:18:48
बेहतर जल प्रबंधन समय की जरूरत
बेहतर जल प्रबंधन समय की जरूरत

आकहा गया है कि जल ही जीवन है। जल प्रकृति के सबसे महत्वपूर्ण संसाधनों में से एक है

देशबन्धु
2017-10-12 00:48:33
कुपोषण पर विजय पाना काफी मुश्किल
कुपोषण पर विजय पाना काफी मुश्किल

आपको बताते चलें की संयुक्त राष्ट्रबाल कोष के अनुसार दुनिया में सबसे ज्यादा कुपोषित बच्चे भारत में हैं

देशबन्धु
2017-10-12 00:43:51
लोग मेरी बात सुनेंगे मेरे मरने के बाद  डॉ लोहिया
'लोग मेरी बात सुनेंगे, मेरे मरने के बाद' : डॉ. लोहिया

डॉ. लोहिया का जीवन अपरिग्रहपूर्ण रहा। उन्होंने धन एकत्रित करने की लालसा कभी नहीं पाली। यही कारण है कि जब उनकी मौत हुई तब उनका न कोई बैंक अकाउंट थ...

देशबन्धु
2017-10-11 22:04:02
हृदय प्रदेश में दलित
हृदय प्रदेश में दलित

बाबा साहेब अम्बेडकर ने बहुत पहले ही बता दिया था कि जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते,कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिय...

देशबन्धु
2017-10-05 01:38:17
शौचालय आंदोलन को  सामाजिक आंदोलन में बदलना होगा
'शौचालय आंदोलन' को  'सामाजिक आंदोलन' में बदलना होगा

देश को 2 अक्टूबर 2019 तक खुले में शौच से मुक्ति दिलाने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य उसी दिशा में उठाया गया पहला कदम है

देशबन्धु
2017-10-05 01:32:36
सफाईकर्मियों की हो रही लगातार मौत
सफाईकर्मियों की हो रही लगातार मौत

यह घटना न तो पहली है और न अंतिम, इससे पहले दिल्ली के छतरपुर, लाजपतनगर, कंड़कड़डुमा, एलएनजेपी अस्पताल, मुंडका और नोएडा सेक्टर 52 में इस तरह की घटनाए...

देशबन्धु
2017-10-05 01:27:51
बाढ़ नियंत्रण और बढ़ता अरबों रुपए का खर्च 
बाढ़ नियंत्रण और बढ़ता अरबों रुपए का खर्च 

बाढ़ की त्रासदी अब देष की नियति हो गई है, जो जल जीवन के लिये जीवनदायी वरदान है, वही अभिषाप साबित हो रहा है

भारत डोगरा
2017-09-28 01:10:21
बांध हैं या बम खतरे में देश
बांध हैं या बम, खतरे में देश

पर्यावरण मंत्रालय की नदी घाटी परियोजनाओं से संबद्ध विशेषज्ञों की एक समिति ने टिहरी बांध के संदर्भ में भी कहा था कि इस परियोजना की सुरक्षा संबंधी ...

देशबन्धु
2017-09-28 01:10:03
बेमौसम बारिश ने तबाह की धान की फसल
बेमौसम बारिश ने तबाह की धान की फसल

पिछले साल भी इस क्षेत्र में बारिश ने भारी नुकसान किया था। यह बारिश उस वक्त हुई है जब धान की फसल पकने को थी

देशबन्धु
2017-09-28 01:09:37
प्राथमिक विद्यालयों में मूल्यों की शिक्षा
प्राथमिक विद्यालयों में मूल्यों की शिक्षा

सरकारी स्कूलों में आने वाले बच्चे बेशक, आम समाज व हाशियाकृत समाज के होते हैं। आम समाज तहेदिल से चाहता है कि उनके बच्चों को बेहतर शिक्षा मिले

देशबन्धु
2017-09-21 00:14:19
शिक्षा में पीपीपी मॉडल  नवउदारवाद की मौजूदगी और जनशिक्षा की उपेक्षा
शिक्षा में पी.पी.पी. मॉडल : नवउदारवाद की मौजूदगी और जनशिक्षा की उपेक्षा

राजस्थान की सरकार ने विद्यालयी शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने के लिए पी.पी.पी. (पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप) का रास्ता चुना है

देशबन्धु
2017-09-21 00:15:47
तालाब खत्म करने से प्यासा है बस्तर
तालाब खत्म करने से प्यासा है बस्तर

चार दशक पूर्व तत्कालीन टाउन प्लानिंग के अनुसार जगदलपुर में करीब आधा दर्जन से अधिक तालाब हुआ करते थे। जिसका उपयोग यहां के लोग निस्तार के लिए किया ...

देशबन्धु
2017-09-21 00:16:09
हिंदी भाषा क्यों नहीं बन पा रहीं रोजगार देने लायक
हिंदी भाषा क्यों नहीं बन पा रहीं रोजगार देने लायक

आज हिंदी को अगर राष्ट्र भाषा बनाना है, और उसकी पहचान विश्व पटल पर रखनी है, तो पहले उसकी कमजोरियों की तर$फझांककर देखना होगा

देशबन्धु
2017-09-14 01:14:34
हम दिवस के दिन ही हिंदीमय होते हैं
हम दिवस के दिन ही हिंदीमय होते हैं

भारत में आज भी स्वतंत्रता के 70 साल बाद भी जहां देश की अपनी राष्ट्रभाषा हिन्दी है वहां अंग्रेजी का प्रयोग धड़ल्ले से जारी ही नहीं है बल्कि संसद से...

देशबन्धु
2017-09-14 01:06:41
वैश्विक फलक पर हिंदी का दबदबा
वैश्विक फलक पर हिंदी का दबदबा

आंकड़ों पर गौर करें तो दुनिया के सभी 206 देशों में हिंदी बोलने वालों की तादाद एक अरब तीस करोड़ के पार पहुंच चुकी है जो कि दुनिया में बोली जाने वाली...

देशबन्धु
2017-09-13 22:09:50
हिंदी का राजनैतिक व मानसिक विरोध
हिंदी का राजनैतिक व मानसिक विरोध?

पूरे विश्व में निश्चय ही हिंदी की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही  है। हिंदी भाषा को सीखना भी बहुत आसान हो गया है

देशबन्धु
2017-09-13 22:00:06
डिजिटल दौर का पिछड़ता गांव और गरीब
डिजिटल दौर का पिछड़ता गांव और गरीब

देश में एक अनुमान के मुताबिक तकरीबन 1.3 अरब टन अनाज बर्बाद कर दिया जाता है, इसके अलावा करोड़ों लोग भूखे पेट सोने के लिए विवश हैं

देशबन्धु
2017-09-07 00:47:39
लागत घटे तो खेती बने उत्तम
लागत घटे, तो खेती बने उत्तम

उत्पादक से उपभोक्ता के बीच सक्रिय दलालों के मुनाफे को नियंत्रित करने मेें भी सरकारों की कोई खास रुचि दिखाई नहीं दे रही

देशबन्धु
2017-09-07 00:41:46