कमल पवित्रता का प्रतीक

कमल कीचड़ जैसी जगह में उगने वाला एक साधारण फूल नहीं है। इसे कई देशों और धर्मों में अति पवित्र माना गया है। देवताओं को भी यह प्यारा है।...

देशबन्धु
कमल पवित्रता का प्रतीक
देशबन्धु

डॉ. सुरेन्द्र प्रसाद
कमल कीचड़ जैसी जगह में उगने वाला एक साधारण फूल नहीं है। इसे कई देशों और धर्मों में अति पवित्र माना गया है। देवताओं को भी यह प्यारा है। दृुर्गा पूजा तथा कई दूसरे पूजा अनुष्ठानों में यह आवश्यक है। पुराणों में इसका वर्णन बहुत बार हुआ है। लक्ष्मी जी, ब्रह्मा जी, तथा विष्णु जी का आसन लाल कमल है और सरस्वती जी का सफेद कमल, या श्वेत पद्मासना...या मां पातु सरस्वती (सरस्वती वन्दना से) ऐसा माना जाता है कि बुद्धदेव जब भी पानी में पैर रखते थे तो अनके पैर के पास कमल की पत्ती आ जाती थी। महावीर जैन ने पावापुरी में समाधि की वह जगह भी कमल से भरे फूल के बीच के टीले पर है। अभी भी वहां कमल के बीच मंदिर है। नई दिल्ली में वहाई सम्प्रदाय वालों ने कमल मंदिर  खिलते कमल के आकार का बनाया। इसी पवित्रता के कारण भारत और वियतनाम का राष्ट्रीय फूल भी कमल है। सभी मंदिर तथा अजन्ता एलोरा की गुफाओं में भी कमल फूल की नक्काशी की गई है। कमल की पत्तियां पानी के ऊपर तैरती हंै तथा फूल सदा पानी के ऊपर ही रहता है बिना गंदगी लगे। संतों और कवियोंं ने कमल पर बहुत कुछ कहा और लिखा है।  इसकी पत्तियां जरा रोयेंदार होती है जिससे उन पर पानी की बूंदें अधिक देर तक नहीं ठहरती, लुढक़ कर नीचे गिर जाती हंै। उनका जीवन क्षणभंगुर होता है। शंकराचार्य जी ने भजगोविन्दम में मनुष्य जीवन की क्षणभंगुरता की तुलना कमल के पत्ते पर के पानी के बूंद से की है- ‘नलिनी दलगत जलमति तरलं तद्वज्जीवित मतिशय चपकम (4) भगवदगीता में भी लिखा है- आशक्ति रहित कर्म करने वाला पाप (दुष्कर्म) से अलिप्त रहता है जैसे पानी में रहने वाला कमल पानी और कीचड़ से अलग रहता है-5/10।  चीन के कनफूशियश धर्मग्रंथ में भी। लिखा है- मंै कमल को पसन्द करता हूं क्योंकि यह कीचड़ में जन्म लेकर भी कमल खिलते है उसी प्रकार दरिद्र के यहां भी प्रतिभाशाली पैदा होते हैं। कमल सदैव गंदे पानी से ऊपर रहता है उसी प्रकार सज्जन लोग बुरे माहौल में पहुंच जाने पर भी उससे अलग रहते हैं। सुन्दर आंखों को कमलनयन कहा जाता है। ऐसी बहुत सी बातें सदियों से लिखी और सुनाई गई है। इसके कमल के अतिरिक्त कई और नाम हंै जैसे पद्म नलिनी, पंकज आदि और अंग्रेजी में लोटस इसके फूल लाल, गुलाबी, नीले और पीले रंग के होते हैं और यह गर्म देश में होता है। इसे बीज से और जड़ के टुकड़े से भी लगाया जाता है। इसके बीज बहुत वर्षों तक नष्ट नहीं होते। चीन के एक सूखे झील की खुदाई में 1300 वर्ष पुराना बीज मिला जिस बोनेे पर कमल का पौधा उगा। इसकी फूल की पंखुडिय़ां, कोमल पत्तियां, बीज (कमलगटट) तथा जड़ (कमलककड़ी) भारत और एशिया के दूसरे देशों में कई तरह से खाए जाते हैं। इसके बीज से कमल मखाना भी बनता है जिसे पीस कर केक-पेस्ट्री में डालने पर स्वाद अच्छा हो जाता है। हॉल के अनुसंधानानुसार कमलककड़ी बहुत पौष्टिक है और इसमें लाभदायक रेशे के अतिरिक्त विटामिन-सी और बी-6, थायामिन, रीवोल्फाविन, पोटेशियम, तांबा, मंैगनीज आदि बहुत से गुणकारी तत्व होते हंै। देशी दवाइयों में भी इसका उपयोग होता है।
कमलककड़ी- यह डंडी है। अधिक प्यास, पीलिया, मूत्र की कमी, पित्त के रोगों में लाभदायक है। हृदय और मस्तिष्क को बल देती है।
कमल बीज- ठंड और तर है। कफ, वायु, रक्त तथा हृदय रोगों में हित कर है। जरा कब्जकर भी है। पीलिया में इसके फूल और बीज दोनों ही लामदायक है। इसके बीज के मखाने को दूध में रबीर बनाकर खाने से शरीर पुष्ट होता है। इस पवित्र और सुन्दर फूल को आप भी अपने बगीचे में उगा सकते हैं। बस एक छोटा सा कमल कुंड बना लीजिये। जहां कहीं कमल हो वहां से थोड़ा जड़ मांग के कीचड़ में लगा दीजिये।


देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार