पिछलग्गू घराना
पिछलग्गू घराना

मेरे पिता अपने जमाने के प्रख्यात पिछलग्गू थे उन्होंने कहा था। उनके चेहरे पर झुर्रियां पड़ चली थीं तथा कनपटी के आसपास काफी बाल सफेद थे, अब मैं खुद ...

देशबन्धु
2017-08-20 11:42:40
मॉं का रुदन
मॉं का रुदन

रविवार, उसकी छुट्टी का दिन था। वह आराम से बिस्तर पर लेटा हुआ टी.वी. देख रहा था। उसके तीनों बच्चे उसके इर्द-गिदे धमाचौकड़ी मचा रहे थे

देशबन्धु
2017-08-20 11:43:41
अनाम रिश्ते
अनाम रिश्ते

सुबह से उसका मन खिन्न था। श्रीकांत से वह अकारण ही उलझ पड़ी थी। रोज सुबह चाय पीने के बाद वह अखबार पढ़ता है, कम-से-कम आधा घंटा

देशबन्धु
2017-08-20 11:44:49
क्या है आरएसएस का शिक्षा एजेंडा
क्या है आरएसएस का शिक्षा एजेंडा?

जिस तरह की शिक्षा व्यवस्था लागू की जा रही है, उसका अंतिम लक्ष्य आने वाली पीढिय़ों के सोचने के तरीके में बदलाव लाना है

देशबन्धु
2017-08-20 11:45:58
जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो गांधीजी के एकादश व्रत अपनाइए
जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो गांधीजी के एकादश व्रत अपनाइए

संसार का हर व्यक्ति जीवन में सफल होना चाहता है। इसके लिए वह तरह तरह  के  साधन व व्रत (संकल्प) अपनाता है, चुन-चुन कर गुणों को ग्रहण करता है

देशबन्धु
2017-08-14 13:31:37
शुक्रिया हैदराबाद
शुक्रिया हैदराबाद!

आप कितना ही सफर तय कर लें जिन्दगी में लेकिन पहले कदम की याद पूरे सफर में तारी रहती है...जब भी किसी सफर की ओर कदम बढाती हूँ

देशबन्धु
2017-08-14 13:12:26
लूट का स्कूल
लूट का स्कूल

 मैं देश के उन लाखों पिताओं में से एक हूँ, जिनके बच्चे लगभग चार साल के हो गए हैं और जिन्हें किसी न किसी पब्लिक स्कूल की शरण में जाने में विलंब की...

देशबन्धु
2017-08-14 13:06:29
भौंकने वाले और तलवे चाटने वाले 
भौंकने वाले और तलवे चाटने वाले 

अापको दस हजार में स्मार्ट फोन मिल सकता है बाजार में, और आप फेसबुक या व्हाट्सएप्प सोशल मीडिया पर मनचाही बात लिख सकते हैं

देशबन्धु
2017-08-14 12:57:44
प्रायश्चित
प्रायश्चित

जीवन वाटिका का वसंत, विचारों का अंधड़, भूलों का पर्वत, और ठोकरों का समूह है यौवन। इसी अवस्था में मनुष्य त्यागी, सदाचारी, देश-भक्त एवं समाज-भक्त भी...

देशबन्धु
2017-08-14 12:35:57
पहुंचना जीव का बिना आधार कार्ड के यमलोक
पहुंचना जीव का बिना आधार कार्ड के यमलोक ...

चित्रगुप्त ने यमदूत से कहा अरे, ये तुम किसे ले आए?

प्रभाकर चौबे
2017-08-14 12:29:35
मैं उनके गीत गाता हूँ
मैं उनके गीत गाता हूँ

मैं उनके गीत गाता हूं, मैं उनके गीत गाता हूं !

देशबन्धु
2017-08-14 12:12:56
चुनाव के बाद
चुनाव के बाद

जंगल में चुनाव हो रहे थे। बकरे ने अपनी माँ से कहा, 'मॉम! मैं शेर का चुनाव प्रचार कर रहा हूं

देशबन्धु
2017-08-14 11:50:09
अपनी राम कहानी
अपनी राम कहानी

एक बार बस में यात्रा करते समय कंडक्टर व पास के गांव में नौकरी कर रहे एक क्लर्क की बातचीत सुनने को मिली

देशबन्धु
2017-08-14 11:47:20
दुबई स्थित भारतीय चित्रकार कलाकृतियों से सेना को करेंगे नमन
दुबई स्थित भारतीय चित्रकार कलाकृतियों से सेना को करेंगे नमन

यहां स्थित एक भारतीय चित्रकार ने देश के स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय सैनिकों की कुर्बानियों और उनके द्वारा उठाई जाने वाली तकलीफों को पेंटिंग के जरिए...

देशबन्धु
2017-08-12 12:41:29
पेंगुइन
पेंगुइन

एक बाएं हाथ से उठाता और घुमाकर अस्सी योजन आकाश में फेंक देता

देशबन्धु
2017-07-23 17:07:25
नाक से बांसुरी बजाने की कला कर देती है अचंभित
नाक से बांसुरी बजाने की कला कर देती है अचंभित

छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले का एक आदिवासी नेत्रहीन अपनी कला से लोगों को खूब अचंभित करता है

देशबन्धु
2017-07-11 12:01:30
मेरे लिए है 
मेरे लिए है 

कल मुझसे सवाल किया किसी ने मैं क्यों बर्बाद करता रहता अपना इतना वक्त ये बेकार की बातें लिखने पर। मैंने कहा ये मेरा काम है मुझे खुशी मिलती ऐसा कर ...

देशबन्धु
2017-07-09 10:09:16
शहर सिसकते न हों कहीं
शहर सिसकते न हों कहीं

जीवन ने जो बहुत सारी बातें सिखाई हैं उनमें से एक यह भी है कि जिस तरह व्यक्ति से मिलना व्यक्ति से मिलना नहीं होता, उसी तरह शहर में जाना शहर में हो...

देशबन्धु
2017-07-09 10:11:55