वनभैंसा जुगाड़ू के हमले से केयर ट्रेकर की मौत

रायपुर/गरियाबंद ! वनभैंसों की पल-पल की खबर रहने के उद्देश्य से रेडियो कॉलर लगाए उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व के वनभैंसा जुगाड़ू ने अपने केयर ट्रेकर रतन लाल यादव की जान ले ली।...

वनभैंसा जुगाड़ू के हमले से केयर ट्रेकर की मौत

रायपुर/गरियाबंद !  वनभैंसों की पल-पल की खबर रहने के उद्देश्य से रेडियो कॉलर लगाए उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व के वनभैंसा जुगाड़ू ने अपने केयर ट्रेकर रतन लाल यादव की जान ले ली। घटना के बाद से ही आसपास के ग्रामीण दहशत में हैं। जुगाड़ू को शनिवार को ही अफ्रीकी विशेषज्ञों और स्थानीय वन विभाग के अधिकारियों की टीम ने बड़ी मशक्कत के बाद रेडियो कॉलर लगाया था। घटना की सूचना मिलते ही एपीसीसीएफ एस.के. सिंह मौके पर पहुंच गए थे।

घटना रविवार शाम को गरियाबंद जिले के ब्लॉक मैनपुर से 38 किलोमीटर दूर ग्राम जुगाड़ के पास हुई। केयर ट्रेकर रतन लाल पिता फुलूराम यादव (50 वर्ष) शनिवार को रेडियो कॉलर लगाए जाने के बाद से वनभैंसा के साथ ही घूमते हुए उसके हर गतिविधियों पर नजर रखे हुए था।

रविवार को शाम कुरूर्भाठा से लगे बीट क्रमांक 13 में वनभैंसा ने उस पर हमला कर दिया, जिससे रतनलाल के सिर व पीठ में गंभीर चोट आई थीं। गंभीर हालत में रतनलाल को वनविभाग के सीसीएफ ओ.पी. यादव और वन परिक्षेत्र अधिकारी आर.डी. रजक मैनपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अस्पताल ले जा रहे थे, लेकिन रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।

गौरतलब है कि गरियाबंद जिले के अंतर्गत आने वाले उदंती अभयारण्य में वनभैंसा जुगाड़ू को शनिवार को बड़ी मशक्कत के बाद रेडियो कॉलर लगाया गया था। इसके लिए अफ्रीकी विशेषज्ञों को बुलाया गया था।

वन अधिकारियों की टीम में अफ्रीका से पहुंचे पशु विशेषज्ञ मिस्टर मार्कोस, पीसीसीएफ छत्तीसगढ़ एस.के. सिंह, सीसीएफ ओ.पी. यादव, दिल्ली के वन्य पशु विशेषज्ञ डॉक्टर अशरफ, नंदनवन छत्तीसगढ़ से वन्यजीव विशेषज्ञ डॉ. जाडिया, डब्ल्यूटीआई के प्रतिनिधि डॉक्टर राजेंद्र मिश्रा शामिल थे।


देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार