बिलासपुर जिले के 4 अफसर करोड़ों के आसामी

बिलासपुर ! एसीबी की टीम ने आज सुबह शहर के चार अफसरों के घरों में छापामार कार्रवाई की। अचानक छापा पडऩे से अधिकारियों के बीच हडक़ंप मच गया।...

बिलासपुर जिले के 4 अफसर करोड़ों के आसामी

एसीबी की भारी-भरकम टीम की ठिकानोंं में दबिश, दस्तावेजों की जांच जारी
बिलासपुर ! एसीबी की टीम ने आज सुबह शहर के चार अफसरों के घरों में छापामार कार्रवाई की। अचानक छापा पडऩे से अधिकारियों के बीच हडक़ंप मच गया। एएसबी की भारी भरकम टीम ने एक साथ छापामार कार्रवाई की। अधिकारियों के घरों से करोड़ों की अघोषित सम्पत्ति  के दस्तावेज अधिकारियों के हाथ लगे हैं। अचानक एंटी करप्शन की कार्रवाई से शहर में पदस्थ अन्य अफसरों के बीच हडक़ंप मच गया।
जिले के सहायक खाद्य अधिकारी आनंद तंबोली, पीएमजेएसवाय के इंजीनियर प्रदीप गुप्ता के यहां तडक़े 5.30 बजे एसबी की अलग-अलग टीम ने छापमार कार्रवाई की। इसके अलावा राजकिशोर नगर में भी दो अफसर अविनाश मुंजाल तथा एम.एल.पाण्डेय के यहां भी एसीबी की टीम छापामार कार्रवाई की। लेकिन बताया जाता है कि शहर में रहने वाले चारों अफसरों के यहां करोड़ों की बेहिसाब सम्पत्ति मिली है। खाद्य विभाग के अफसर आनंद तंबोली तो प्रदेश शासन के एक मंत्री के करीबी भी माने जाते हैं और मंत्री की कृपा से पिछले 10 साल से वे जिले में पदस्थ हैं। इंजीनियर के भाई उनके ही विभाग में ठेकेदारी करते हैं।
भ्रष्टाचार व कालाधन को लेकर केन्द्र सरकार की नीति के तहत प्रदेश सरकार अपनी छवि को सुधारने के लिए पिछले एक साल में प्रदेश के कई नामी अफसरों के यहां छापामार कार्रवाई की है। अब एक दर्जन से अधिक अफसरों के यहां पूर्व में हुई छापामार कार्रवाई के बाद एसीबी की टीम ने आज प्रदेश के नौ अफसरों के ठिकाने पर छापामार कार्रवाई की है।
जिले में पिछले 3 साल से पदस्थ सहायक खाद्य अधिकारी आनंद तंबोली का विजयापुरम में रह रहे हैं। मुंगेली, कोटा, तखतपुर समेत कई जिलों में वे खाद्य अधिकारी रहे हैं। उन्होंने शहर में कई स्थानों पर जमीन खरीदी थी तथा वर्तमान में वे विजयापुरम में आलीशान मकान में रह रहे हैं। जिस मकान में वे रहते हैं उसकी कीमत वर्तमान में करोड़ों रूपए हैं।
विवादों मेें घिरे थे
श्री तंबोली का विवादों से नाता रहा है। खाद्य अधिकारी के रुप में रहते हुए राशनकार्ड चावल घोटाला, हितग्राहियों के आबंटन को लेकर वे जांच में फंसे थे और चावल की अफरा-तफरी मामले में भी अब खुलासा होने की संभावना है। आज सुबह 6 बजे एसीबी के 11 अफसरों की टीम दलबल के साथ विजयापुरम पहुंची और आनंद के घर को घेर लिया। तंबोली कुछ समय पाते इसके पहले ही एसीबी के अफसर अधिकारी के घर में घुए गए। वहीं पीएमजेएसवाय के इंजीनियर प्रदीप गुप्ता पिछले तीन सालों से जिले में पदस्थ हैं। प्रदीप गुप्ता के भाई इसी विभाग में बड़े ठेकेदार हैं। प्रदीप गुप्ता का श्रीकांत वर्मा मार्ग स्थित सांई परिसर में आलीशान मकान है। वे शहर में पिछले कई साल से रह रहे हैं। आज जैसे ही एसीबी के 8 अफसरों की टीम सांई परिसर पहुंची तो कालोनी मेें हडक़ंप मच गया। अफसरों के घर से दस्तावेज मिले हैं जिसमें खेत, मकान, दुकान समेत करोड़ों की सम्पत्ति का खुलासा हुआ है। वहीं राजकिशोर नगर में रहने वाले औद्योगिक स्वास्थ एवं सुरक्षा विभाग के उपसंचालक अविनाश मुुंजाल के यहां कार्रवाई की जा रही है। अविनाश मुंजाल शुरू से विवादों में रहे हैं। गांधी चौक में इनका दफ्तर है। वे बिलासपुर के साथ-साथ पड़ोसी जिले जांजगीर, चांपा, कोरबा का भी काम देखते हैं। वहीं एमएल पाण्डेय के निवास राजकिशोर नगर में एसीबी की 10 अधिकारी कर्मचारियों का दल जांच में जुआ। बैंक खातों के अलावा अनेक दस्तावेज टीम को मिली है। आयकर टीम की कार्रवाई के बाद प्रदेश समेत बिलासपुर में एसीबी की इस साल की पहली बड़ी कार्रवाई है। बिलासपुर में एसीबी टीम ने श्रीकांत वर्मा मार्ग स्थित पीएमजेएसवाय ईई प्रदीप गुप्ता के साई परिसर स्थित आवास में दबिश दी है। पीएमजेएसवाय एक्जूक्यिूटिव इंजीनियर प्रदीप गुप्ता का भाई पीएमजेएसवाय समेत पीडब्ल्यूडी विभाग का ठेकेदार भी है। गुप्ता भाईयों के यहां से टीम को अनुपातहीन सम्पत्ति होने की जानकारी मिल रही थी। बिलासपुर स्थित खाद्य विभाग में पदस्थ सहायक खाद्य अधिकारी ए के तंबोली के निवास पर भी एसीबी टीम ने छापा मारा। तम्बोली पिछले कुछ साल से विवादों में थे। एसीबी की नजर लगातार विवाद और तंबोली की गतिविधियों पर थी।


देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार

क्या अमर सिंह का कहना सही है कि यादव परिवार की कलह मुलायम सिंह की लिखी स्क्रिप्ट का हिस्सा थी