Deshbandhu : Vichar,culture,vimarsh,articles, भारत छोड़ो आन्दोलन और धानापुर!
 Last Updated: 09:50:08 AM 24, Jul, 2014, Thursday
साइन इन   संपर्क करें
खबरे लगातार 09:50:16 AM 24, Jul, 2014, Thursday समाचार सेवाएँ डेस्कटॉप पर मोबाइल पर घर पर आर एस एस फीड
होम आज का अंक पिछले अंक      ब्लॉग्स विडियोगैलरी
ताजा समाचार
    आपात लैंडिंग़ के दौरान विमान क्रेश ,51 यात्रियों की मौत     समस्या से घिरी सरकार न्यायाधीशों की तरफ देखती है    संयुक्त राष्ट्र ने इजरायल को चेताया    एमएच17 के यात्रियों के शव नीदरलैंड पहुंचे    इराक में नए राष्ट्रपति का चुनाव स्थगित    क्या शिमला अभी भी 'पदयात्रियों का शहर' है    बीसीसीआई को एनएसएफ में बदलने का मामला अदालत पहुंचा    बदरीनाथ मार्ग खुला, चारधाम यात्रा आंशिक रूप से शुरू    किसानों को भूमि वापस करने का निर्देश    मंत्रियों की 'सैर' पर घिरी गोवा सरकार    'इंसाफ पाना हुआ महंगा'  
 आपका देशबन्धु
अन्य
राशिफल
कार्टून
इंटरव्यू
ई-पेपर
सहयोगी संस्थाएं
अक्षर पर्व
हैलो सरकार
जनदर्शन
मायाराम सुरजन फ़ाउन्डेशन
देशबन्धु लाइब्रेरी
हाईवे चैनल
बाल स्वराज
सेवाएँ
Jobs
Shopping
Matrimony
Web Hosting
विचार     कला, साहित्य, संस्कृति,विमर्श
  प्रिंट संस्‍करण     ईमेल करें   प्रतिक्रियाएं पढ़े     सर्वाधिक पढ़ी     सर्वाधिक प्रतिक्रियाएं मिली
भारत छोड़ो आन्दोलन और धानापुर!
(09:16:11 PM) 19, Aug, 2012, Sunday


इतिहास के राजमार्गों से गुज़रते हुए कुछ अनाम सी पगडंडियाँ भी मिल जाती हैं जिनकी शिनाख्त बेशक उस करीने से न हो पाई हो जिनकी वे हकदार थीं मगर इससे उनकी महत्ता कम नहीं हो जाती। ऐसी ही तमाम पगडंडियाँ स्वतंत्रता के संग्राम के दौरान निकलती हैं जो भले ही इतिहास में उस महत्त्व को नहीं पा सकीं पर उनकी गूँज से तत्कालीन परिस्थितियां हुईं। अगस्त 1942 में बम्बई में महात्मा गांधी की करो या मरो की उद्धोषणा देश के कोने.कोने तक पहुँच चुकी थी। पटना, कलकत्ता, गाजीपुर, बलिया, आजमगढ़ सभी जगहों पर तिरंगा लहरा उठा, विद्रोह का बिगुल बज उठा, तार.संचार रेल.पटरी सभी को ध्वस्त करने का सिलसिला शुरू हो गया। सरकारी इमारतों, थानों, सचिवालयों, अदालतों पर तिरंगा फहराने लगा और जगह.जगह लोगों को गोलियों से भूना गया। चन्दौली धरती भी इससे अछूती नहीं रही।
इस जिले में स्थानीय आन्दोलनकारियों ने अपने योगदान का उदाहरण पेश किया। 10 अगस्त को हेतमपुर ग्राम में कामता प्रसाद के नेतृत्व में सम्पन्न एक बैठक में निर्णय लिया गया कि आज़ादी के समर्थन में स्थानीय बाजार बन्द कराये जाएँ । गुलाब सिंह कादिराबाद की अगुआई में 11 अगस्त को कमालपुर बाजार और लल्लन सिंह की अगुआई में धानापुर का बाजार बन्द कराया गया। इसी म में 12 अगस्त को अन्दोलनकारियों का जत्था कामता प्रसाद विद्यार्थी की अगुआई में गुरेहूँ ग्राम पहुँचा जहां बन्दोबस्त का कार्य बन्द कराया। यहां आजादी का झन्डा फहराया गया। यहां बन्दोबस्त अधिकारी व पटवारी को अपना बस्ता समेटने पर विवश किया गया। चन्दौली के स्वतंत्रता सेनानियों ने 13 अगस्त 1942 ई0 को चन्दौली तहसील पर आजादी का झण्डा फहराने का निर्णय लिया। इस आन्दोलन में श्री रामसूरत मिश्र, श्री बिहारी मिश्र, श्री जगत नारायण दुबे, श्री चन्द्रिका शर्मा, श्री रामनेरश सिंह, श्री रामधनी सिंह, श्री सरजू साहू, श्री लालता सिंह, श्री विभूति सिंह, श्री लालजी सिंह, श्री बैजनाथ तिवारी, श्री सरजू साहू एवं श्री उमाशंकर तिवारी आदि महत्वपूर्ण नेता शामिल हुये। 14 अगस्त को उक्त आन्दोलनकारियों के नेतृत्व में एक जत्था सकलडीहा स्टेशन पहुँचा और वहां पर झण्डा फहराया इसके बाद यह निश्चय किया गया कि 16 अगस्त को एक बजे दिन में धानापुर थाने पर झण्डा फहराया जायेगा।
16 अगस्त को ये जत्था धानापुर थाने पहुँचा। हजारों की संख्या में उमड़ती भीड़ थाने की तरफ  बढ़ने लगी, लोग सर पर बांधे कफन, शहीदों की टोली निकली, गीत गाते हुये जा रहे थे, जूलूस थाने के फाटक के सामने पहुँच गया। श्री राजनारायण सिंह, सूर्यमनी सिंह, बलिराम सिंह ने तैनात थानेदार को समझाया कि वे आन्दोलनकारियों को शान्तिपूर्ण ढंग से थाने पर झण्डा फहराने दें। थानेदार अनवारूल हक ने आन्दोलन कारियों से साफ़  शब्दों में कहा कि अगर झंडा फहराने की कोशिश की तो गोली चला दी जाएगी। थानेदार अपनी जिद पर अड़ा था और खुद मोर्चाबन्दी कर 52 चौकीदारों को अर्ध्दवृत्ताकार बनाकर मोर्चाबंदी कर ली। इसमें लाठी बन्द 08 हवलदार थे और चैकीदार के पीछे राइफल धारी सिपाही तैनात थे। आन्दोलनकारी मगर इन धमकियों से कहाँ डरने वाले थे। कामता प्रसाद विद्यार्थी जी बिजली की तीव्र गति से थाने के धारदार फाटक को लांघकर उस पार पहुँच गये और उनके साथ रामाधार कोहार भी भीतर कूद गये। विद्यार्थी जी के फाटक लांघने के साथ हीरा सिंह, रघुनाथ सिंह, महंगू सिंह, सत्यनाराणय सिंह, शिवनाथ गुप्ता एवं गुलाब सिंह फाटक पर चढ़ चुके थे और इसी बीच थानेदार की रिवाल्वर की गोली धाँय.धाँय कर उठी। एक गोली विद्यार्थी जी के कान के पास से निकल गयी लेकिन हीरा सिंह, मंहगू सिंह, रघुनाथ सिंह को प्राणघातक गोली लगी। कुल आठ आदमियों को गोली लगी। इसी बीच फाटक के भीतर ही नीम के पेड़ के नीचे ही श्री कामता प्रसाद विद्यार्थी ने झण्डा फहरा दिया। झण्डा फहराने के बाद विद्यार्थी जी फाटक लांघ कर बाहर आ गये। भीड़ के उग्र मिजाज़ को समझ कर थानेदार भागने लगा, जनता उद्वेलित हो गयी। क्रुध्द जनता ने थाने को तीनों ओर से घेर लिया। उसी समय आन्दोलनकारी हरि नारायण अग्रहरि ने दौड़कर थानेदार को पकड़ लिया। क्रुध्द जनता की अनगिनत लाठी थानेदार पर बरसने लगी और वह लुढ़क कर जमीन पर गिर गया और मौके पर उसकी मृत्यु हो गयी। जनता ने हेड कान्सटेबल और 02 सिपाहियों को फाटक के सामने ही मौत के घाट उतार दिया और कुछ सिपाही वर्दी उतार कर छुपकर भाग खड़े हुये। हीरा सिंह वहीं शहीद हो गये, रघुनाथ सिंह सकलडीहा अस्पताल में दाखिल हुये और वहां शहीद हुए और मंहगू सिंह रास्ते में शहीद हो गये। उद्वेलित लोगों ने थाने के फाटक तोड़ दिया, कागज जला दिया, थाने के फर्नीचर तथा चारों पुलिस कर्मियों की लाशों को थाने के फाटक के बाहर इकट्ठा करके जला दिया।
16 अगस्त से 26 अगस्त तक धानापुर थाने पर तिरंगे झंडे का कब्जा बना रहा। इस घटना को लेकर स्थानीय लोगों में आज भी असीम उत्साह रहता है। इतिहास में धानापुर का यह संग्राम छोटी सी घटना जरूर हो सकती है मगर इस घटना को लेकर स्थानीय जन आज भी उसी श्रध्दा से जुड़ा है।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
Home Online Hindi News About us latest news from chhattisgarh
Sitemap chhattisgarh news Contact
Privacy Policy Terms & Conditions Disclaimer
Online Hindi news | Latest news from Chhattisgarh | Chhattisgarh Newspaper | Newspaper in Hindi | Hindi News Blogs | Chhattisgarh hindi news | IPL Cricket News | Business News in Hindi | National News in Hindi | Sport News in Hindi | Hindi Entertainment News | Political News Headlines | Latest news from India
  Web Design By: Sai Webtel