Deshbandhu : regional,chhattisgarh,raipur,छत्तीसगढ़,रायपुर, छत्तीसगढ़ ने बनाया देश का पहला खाद्य सुरक्षा कानून
 Last Updated: 04:08:17 PM 23, Apr, 2014, Wednesday
साइन इन   संपर्क करें
खबरे लगातार 04:08:17 PM 23, Apr, 2014, Wednesday समाचार सेवाएँ डेस्कटॉप पर मोबाइल पर घर पर आर एस एस फीड
होम आज का अंक पिछले अंक      ब्लॉग्स विडियोगैलरी
ताजा समाचार
    गिरिराज सिंह के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी    महिलाओं के फोन सुनने वाला उन्हें क्या सशक्त करेगा : प्रियंका    मुझे मालूम हैं NDA में शामिल नहीं होगी ममता :मोदी     वाराणसी : केजरीवाल का रोड शो, मोदी राहुल पर साधा निशाना     वाड्रा के खिलाफ सीबीआई जांच पर होगी सुनवाई    यूक्रेन में राजनेता की हत्या के बाद अलर्ट    240 करोड़ रुपये, 1.3 करोड़ लीटर शराब जब्त    पाकिस्तान में 3जी, 4जी स्पेक्ट्रम लाइसेंस नीलामी शुरू    सरकारी विज्ञापनों पर न्यायालय ने बनाई समिति    शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी    नरेंद्र मोदी भारत के ऐतिहासिक प्रधानमंत्री होंगे : रमन सिंह     कांग्रेस ने किया साढे पांच लाख करोड रुपये का घोटाला : राजनाथ    भ्रष्टाचार से निपटने कार्ययोजना नहीं भाजपा के पास : राहुल    जो शौक अच्छी आमदनी भी लाये, वही सबसे अच्छा काम है    बाजू पर बुद्ध का टैटू गुदवाकर ली मुसीबत मोल    उद्योगपति चलाते है छत्तीसगढ़ में सरकार    छठे चरण का चुनाव प्रचार थमा, शांतिपूर्ण मतदान कराने कड़ी सुरक्षा व चौकसी    पति के बचाव में आगे आईं प्रियंका    सत्ता मिली तो साफ होगी यमुना : राहुल     समलैंगिकों की याचिका पर खुली अदालत में सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट    चिटफंड कंपनियों से है ममता की सांठगांठ..सोनिया गांधी    मोदी की विध्वंसक छवि विकास पुरुष में तब्दील    दलित वोटों में बिखराव से भाजपा व सपा को फायदा     बदले की राजनीति वक्त की बरबादी है : मोदी    महिलाओं की बेहतरी के लिये उपयुक्त देश नहीं है भारत : किरण बेदी    मैक्सवेल की आंधी में उडे सनराइर्जस  
 आपका देशबन्धु
अन्य
राशिफल
कार्टून
इंटरव्यू
ई-पेपर
सहयोगी संस्थाएं
अक्षर पर्व
हैलो सरकार
जनदर्शन
मायाराम सुरजन फ़ाउन्डेशन
देशबन्धु लाइब्रेरी
हाईवे चैनल
बाल स्वराज
सेवाएँ
Jobs
Shopping
Matrimony
Web Hosting
समाचार
  प्रिंट संस्‍करण     ईमेल करें   प्रतिक्रियाएं पढ़े     सर्वाधिक पढ़ी     सर्वाधिक प्रतिक्रियाएं मिली
छत्तीसगढ़ ने बनाया देश का पहला खाद्य सुरक्षा कानून
(04:19:48 AM) 07, Jul, 2013, Sunday

सुर्ख़ियो में
मैक्सवेल की आंधी में उडे सनराइर्जस
बदले की राजनीति वक्त की बरबादी है : मोदी
महिलाओं की बेहतरी के लिये उपयुक्त देश नहीं है भारत : किरण बेदी
मुझे मालूम हैं NDA में शामिल नहीं होगी ममता :मोदी
महिलाओं के फोन सुनने वाला उन्हें क्या सशक्त करेगा : प्रियंका
गिरिराज सिंह के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी
वाराणसी : केजरीवाल का रोड शो, मोदी राहुल पर साधा निशाना
वाड्रा के खिलाफ सीबीआई जांच पर होगी सुनवाई
यूक्रेन में राजनेता की हत्या के बाद अलर्ट

रायपुर !   केंद्र सरकार के राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अध्यादेश और छत्तीसगढ़ सरकार के अपने खाद्य सुरक्षा कानून में कई बुनियादी फर्क हैं, जिनकी इन दिनों देश भर में चर्चा में है। मुख्यमंत्री रमन सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार छह महीने पहले (21 दिसंबर 2012 को) विधानसभा में विधेयक लाकर प्रदेश के लगभग पचास लाख परिवारों यानी अपनी कुल आबादी के 90 प्रतिशत हिस्से को भोजन के अधिकार की कानूनी गारंटी दे चुकी है। इनमें 42 लाख गरीब और आठ लाख सामान्य परिवार शामिल हैं। (22:33)  छत्तीसगढ़ के विधेयक में केवल आर्थिक रूप से सशक्त और आयकरदाता लगभग छह लाख परिवार इस कानून के दायरे से बाहर रखे गए हैं। इस प्रकार छत्तीसगढ़ ने देश का पहला खाद्य सुरक्षा कानून बनाकर एक नया इतिहास रचा है। गरीबों और जरूरतमंद परिवारों के लिए छत्तीसगढ़ का यह कानून कई मायनों में बेहतर है।
मुख्यमंत्री रमन सिंह का कहना है कि जनता को कम से कम दो वक्त के भरपेट भोजन की गारंटी दिए बिना विकास की बड़ी-बड़ी बातें करना निर्थक है। इसलिए विकास को सार्थक बनाना है तो जनता को खाद्य सुरक्षा के रूप में यह कानूनी गारंटी मिलनी चाहिए। छत्तीसगढ़ ने सबसे पहले ऐसा कर दिखाया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्वोच्च नयायालय और योजना आयोग सहित देश के अधिकांश राज्यों ने छत्तीसगढ़ की सार्वजनिक वितरण प्रणाली की प्रशंसा की है। कई राज्यों के मंत्री और अधिकारी अध्ययन दौरे पर आकर छत्तीसगढ़ की सार्वजनिक वितरण प्रणाली को देख चुके हैं और उन सबने इसे खाद्य सुरक्षा के मामले में एक नए मॉडल की तरह माना है।
रमन सिंह ने कहा कि जनता को भूख और कुपोषण से मुक्ति दिलाकर संयुक्त राष्ट्र संघ के सहस्त्राब्दि विकास लक्ष्य को प्राप्त करना भी छत्तीसगढ़ के खाद्य सुरक्षा कानून का एक प्रमुख उद्देश्य है।
उन्होंने कहा, "हमारे इस कानून से छत्तीसगढ़ के सभी गरीब और जरूरतमंद परिवारों को भोजन का अधिकार मिल गया है।"
केंद्र सरकार ने जिस अध्यादेश के जरिए खाद्य सुरक्षा कानून लागू करने का निर्णय लिया है, उसे राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कई अर्थशास्त्रियों और खाद्य सुरक्षा विशेषज्ञों ने नाकाफी बताया है।
नोबल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अर्मत्य सेन और खाद्य सुरक्षा विशेषज्ञ ज्यां द्रेज और एन.सी. सक्सेना तथा विराज पटनायक ने भी समय-समय पर यह कहा है कि छत्तीसगढ़ में पहले से कामयाबी के साथ चल रहे खाद्य सुरक्षा कानून में ऐसी तमाम खूबियां हैं, जो पूरे देश में जनता के लिए खाद्य सुरक्षा के उद्देश्यों को प्रभावी ढंग से पूर्ण कर सकती हैं। इन विशेषज्ञों ने समय-समय पर केंद्र को छत्तीसगढ़ का यह मॉडल अपनाने की भी सलाह दी है।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
Home Online Hindi News About us latest news from chhattisgarh
Sitemap chhattisgarh news Contact
Privacy Policy Terms & Conditions Disclaimer
Online Hindi news | Latest news from Chhattisgarh | Chhattisgarh Newspaper | Newspaper in Hindi | Hindi News Blogs | Chhattisgarh hindi news | IPL Cricket News | Business News in Hindi | National News in Hindi | Sport News in Hindi | Hindi Entertainment News | Political News Headlines | Latest news from India
  Web Design By: Sai Webtel