सुप्रीम कोर्ट ने सहारा डायरियों की जांच कराने से किया इनकार

नयी दिल्ली ! उच्चतम न्यायालय ने गैर सरकारी संगठन ‘कॉमन काॅज’ की उस याचिका को आज खारिज कर दिया जिसमें आयकर छापों में मिली उन ‘सहारा और बिड़ला डायरियों’ की जांच कराने का आग्रह किया गया था...

सुप्रीम कोर्ट ने सहारा डायरियों की जांच कराने से किया इनकार
हाइलाइट्स

नयी दिल्ली !  उच्चतम न्यायालय ने गैर सरकारी संगठन ‘कॉमन काॅज’ की उस याचिका को आज खारिज कर दिया जिसमें आयकर छापों में मिली उन ‘सहारा और बिड़ला डायरियों’ की जांच कराने का आग्रह किया गया था जिनमें कथित तौर पर गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री एवं मौजूदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा दिल्ली की तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित समेत कुछ राजनेताओं के नाम थे।

नयी दिल्ली !  उच्चतम न्यायालय ने गैर सरकारी संगठन ‘कॉमन काॅज’ की उस याचिका को आज खारिज कर दिया जिसमें आयकर छापों में मिली उन ‘सहारा और बिड़ला डायरियों’ की जांच कराने का आग्रह किया गया था जिनमें कथित तौर पर गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री एवं मौजूदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा दिल्ली की तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित समेत कुछ राजनेताओं के नाम थे। 
न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति अमिताभ रॉय की पीठ ने कॉमन कॉज और एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी की दलीलें सुनने के बाद कहा कि डायरियों की जांच का आदेश देने के लिए पर्याप्त एवं ठोस सबूत नहीं है। पीठ ने कहा, “अगर हम पर्याप्त सबूत के बिना जांच के आदेश दें तो संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के लिए काम करना मुश्किल हो जाएगा, यह लोकतंत्र के लिए सुरक्षित नहीं होगा।” 
न्यायालय ने कहा,“ जिन परिस्थितियों में ये दस्तावेज एकत्र और फाइल किए गये हैं, हमें लगता है कि जांच का आदेश देना सुरक्षित और उचित नहीं होगा।” 
गौरतलब है कि कॉमन कॉज का आरोप है कि अायकर विभाग के छापे में बरामद डायरी में कुछ नेताओं के नाम शामिल हैं, जिन्हें घूस दी गयी थी । इनमें कथित तौर पर श्री मोदी का नाम भी शामिल हैं। याचिकाकर्ता ने इन आरोपों की जांच एसआईटी से कराने की मांग की है। 
न्यायालय ने कॉमन कॉज को उसके आरोपों को साबित करने के लिए विश्वसनीय सबूत पेश करने को कहा था जिसके बाद संगठन ने पिछले सप्ताह कुछ ई-मेल और अन्य दस्तावेज प्रस्तुत किए थे । 
न्यायालय का यह फैसला कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के लिए झटका माना जा रहा है। दोनों नेता इन डायरियों का हवाला देकर श्री मोदी पर हाल के दिनों में लगातार हमले करते रहे हैं। 


देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार

क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं है