क्रिकेट प्रशासक बनने में रूचि नहीं: गावस्कर

 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और अपने विचारों को लेकर हमेशा मुख रहे सुनील गावस्कर ने कहा है कि उन्हें न तो राजनीति में कोई दिलचस्पी है और न ही वह क्रिकेट प्रशासक बनने में रूचि रखते हैं...

क्रिकेट प्रशासक बनने में रूचि नहीं: गावस्कर
Gavaskar

रांची। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और अपने विचारों को लेकर हमेशा मुख रहे सुनील गावस्कर ने कहा है कि उन्हें न तो राजनीति में कोई दिलचस्पी है और न ही वह क्रिकेट प्रशासक बनने में रूचि रखते हैं। भारत और आस्ट्रेलिया के बीच हो अपने नाम पर आधारित सीरीज गावस्कर-बार्डर ट्राफी में कमेंट्री कर रहे पूर्व क्रिकेटर ने यहां कहा कि उन्हें राजनीति में जाने या क्रिकेट प्रशासक बनने में उनकी कभी रूचि नहीं रही है।

गावस्कर ने कहा“ नवजोत सिंह सिद्धू के पिता पंजाब के महाधिवक्ता थे और सामाजिक सरोकारों से जुड़े रहे और आज नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब में मंत्री बने हैं जिसके लिये मैं उन्हें मेरी शुभकामनाएं देता हूं। हालांकि मुझे व्यक्तिगत रूप से राजनीति में रूचि नहीं रही है अाैर न ही मैं क्रिकेट प्रशासक की भूमिका काे लेकर उत्साहित हूं।


” पूर्व कप्तान ने यहां यूनीवार्ता से साथ ही कहा कि भारत और आस्ट्रेलिया सीरीज के अंतिम टेस्ट में धर्मशाला में विजेता टीम को बार्डर-गावस्कर ट्राफी देने के लिए आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान एलेन बार्डर को आमंत्रित किया जाना चाहिए।

उन्होंने “दुनिया भर में होने वाले खेल के विभिन्न टूर्नामेंटों में पुराने खिलाड़ियों को आमंत्रित किया जाता रहा है और भारत में भी इस तरह की परंपरा कायम होनी चाहिए। तमिलनाडु क्रिकेट संघ पुराने क्रिकेट खिलाड़ियों को मैच के लिए आमंत्रित करता है लेकिन अन्य राज्यों के क्रिकेट संघों को भी पुराने खिलाड़ियों को सम्मान के साथ मैच देखने के लिए बुलाना चाहिए।”
 

देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार