बंद रहे नगर के निजी स्कूल

  नियमों के नाम पर परेशान करने का आरोप, सौंपा ज्ञापन...

बंद रहे नगर के निजी स्कूल
Private school closed

इटारसी। प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन के बंद के आह्वान पर आज शहर के अधिकांश प्रायवेट स्कूल बंद रहे। आरटीई के नियमों में परिवर्तन कर कभी परिवहन के नियम बनाकर तो कभी बच्चों के नि:शुल्क प्रवेश कराकर उनकी फीस प्रतिपूर्ति दो साल से न करने के विरोध में प्रायवेट स्कूल संचालकों ने प्रदेश के कई शहरों में बंद का आह्वान किया। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष, कलेक्टर और एसडीएम को ज्ञापन सौंपे गए हैं।

प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष शिव भारद्वाज, नगर अध्यक्ष प्रशांत जैन, सचिव आलोक गिरोटिया, उपाध्यक्ष संदीप तिवारी, विजय मनवानी, धर्मेन्द्र रणसूरमा, कोषाध्यक्ष अजय चौकसे, प्रशांत चौबे, नटवर पटेल, खेल प्रभारी आरके गौर, घनश्याम शर्मा, लोकेन्द्र साहू, आरती जैसवाल, अशोक अवस्थी, अमीर अंसारी, मयंक सोनी, बाबई से अनीस सराठे, नीलेश जेन, मनोज पटेल आदि ने विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय में निज सचिव विनोद चौहान को एक ज्ञापन सौंपा। इसके बाद वे एसडीएम कार्यालय भी पहुंचे जहां मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा।

प्रवक्ता आलोक गिरोटिया ने बताया कि एक दिन पूर्व विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने मुलाकात के दौरान कहा था कि जल्द ही एक प्रतिनिधिमंडल के साथ मंत्रियों और विभाग के अधिकारियों से भेंट करके समाधान निकाला जाएगा। संगठन ने मांग की है कि एक एकड़ भूमि की अनिवार्यता को करके ईमानदारी और निष्ठा से शिक्षण करा रहे छोटे स्कूल संचालकों को रोजगार विहीन करने का प्रयास किया जा रहा है। परिवहन हेतु स्कूल संचालक वाहन आपरेटर्स को वाहन अप टू डेट रखने का व स्वयं द्वारा संचालित वाहनों को अप टू डेट रखने का कार्य जिम्मेदारी से करते हैं। बल्कि समय-समय पर शासन के नियमों का पालन कर उन्हें अपगे्रड करते हैं, पर एक दुर्घटना के होते ही बिना समय दिए सब पर कार्यवाही अन्यायपूर्ण है। बस की अनिवार्यता से सभी संचालकों को संस्था बंद करने पर मजबूर किया जा रहा है। नियमों के नाम पर स्कूल संचालकों के पैसे रोककर नियोजित प्रताड़ना दी जा रही है।

 शतचंडी महायज्ञ आज से, सुबह निकलेगी घटयात्रा


 इटारसी। श्री बूढ़ी माता मंदिर में आज से श्री शतचंडी महायज्ञ का आयोजन प्रारंभ होगा। पहले दिन बुधवार 24 जनवरी को घटयात्रा निकाली जाएगी तथा समपन 30 जनवरी को किया जाएगा। मंदिर परिसर में आयोजन को लेकर तैयारी अंतिम चरण में है। आज मंदिर परिसर की धुलाई-सफाई की गई।

आयोजन समिति की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया है कि 24 जनवरी को प्रात: 8 बजे घटयात्रा श्री माता महाकाली दरबार से प्रारंभ होकर शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए श्री बूढ़ी माता मंदिर पहुंचेगी। यहां पंचांग पूजन, ब्राह्मण वरण सहित अन्य धार्मिक कार्यक्रम होंगे। 25 जनवरी को सुबह 10 बजे से अरणि मंथन द्वारा अग्नि प्रज्वलित करके यज्ञ प्रारंभ किया जाएगा। 26 जनवरी से 29 जनरी तक हर दिन सुबह 8:30 बजे से 12 बजे और दोपहर 2:30 बजे से 5:30 बजे तक पूजन एवं दुर्गा सप्तशती पाठ, रूद्राभिषेक यज्ञ, आरती एवं प्रसाद वितरण होगा। 30 जनवरी को दोपहर 2 बजे से पूर्णाहुति, पूजन, आरती, प्रसाद वितरण, ब्राह्मण व कन्याभोज, महाप्रसाद वितरण होगा।  इस दौरान 25 से 29 जनवर तक हर दिन दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक प्रवचन चलेंगे। यज्ञाचार्य पं. रामगोपाल त्रिपाठी रहेंगे व प्रवचनकर्ता भगवतार्चा पं. विष्णुपुरी गोस्वामी हैं। 

देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार