छत्तीसगढ़ से 388 यात्री जाएंगे हज

छत्तीसगढ़ से इस वर्ष 388 यात्री हज करने सऊदी अरब जाएंगे। कुर्राह में रविवार देर रात राज्य के अल्पसंख्यक विकास मंत्री केदार कश्यप ने हज यात्रियों की लॉटरी निकालकर उनके नामों की घोषणा की...

छत्तीसगढ़ से 388 यात्री जाएंगे हज
Saudi Arab

रायपुर। छत्तीसगढ़ से इस वर्ष 388 यात्री हज करने सऊदी अरब जाएंगे। कुर्राह में रविवार देर रात राज्य के अल्पसंख्यक विकास मंत्री केदार कश्यप ने हज यात्रियों की लॉटरी निकालकर उनके नामों की घोषणा की। साथ ही उन्होंने यात्रियों को बधाई और उनकी यात्रा की सफलता की कामना की।

अल्पसंख्यक विकास मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि मुस्लिम भाई-बहनों का एक बड़ा सपना होता है और उनके लिए हज यात्रा सौभाग्य की बात होती है। उन्होंने छत्तीसगढ़ से जाने वाले हज यात्रियों से आग्रह किया कि वे वहां पहुंचकर अल्लाह से राज्य और देश की तरक्की और खुशहाली के लिए आशीर्वाद लेकर आएं।

कश्यप ने कहा कि हज यात्रियों को यात्रा के संपूर्ण प्रशिक्षण के लिए राज्य हज कमेटी द्वारा हज गाइड मोबाइल एप तैयार किया जा रहा है। इसे जल्द ही हज यात्रियों को उपलब्ध कराया जाएगा। इस मोबाइल एप के माध्यम से हज यात्री यात्रा की संपूर्ण जानकारी अपने मोबाइल पर प्राप्त कर सकेंगे, जिससे उन्हें हिन्दुस्तान में ही नहीं, बल्कि सऊदी अरब में भी आसानी होगी।


कार्यक्रम में राज्य हज कमेटी की ओर से बताया गया कि वर्ष 2017 की यात्रा के लिए वर्ष 2011 की जनसंख्या के अनुसार छत्तीसगढ़ को केंद्रीय हज कमेटी से 388 सीटें मिली हैं। इनमें 252 सीटें आरक्षित श्रेणी में हैं। इन रिजर्व सीटों को घटाकर 136 सीटों के लिए कुर्राह में लॉटरी निकाली गई। बाकी अर्जीदारों को प्रतीक्षा सूची में रखा गया है। 

रिजर्व केटेगरी में 44 हज यात्री 70 वर्ष एवं सहयात्री के रूप में तथा 204 हज यात्री लगातार तीन साल से चयन नहीं होने के कारण और चार आवेदक पांचवीं बार आवेदन करने के कारण रिजर्व केटेगरी के लिए पात्र घोषित हुए हैं।

प्रदेश के अल्पसंख्यक विकास मंत्री ने कार्यक्रम के दौरान कहा कि राज्य सरकार ने नया रायपुर में सभी जरूरी सुविधाओं से सुसज्जित हज भवन के निर्माण के लिए 1.20 हेक्टेयर जमीन आवंटित कर दी है और भवन निर्माण के लिए बजट में आवश्यक वित्तीय प्रावधान किया जा रहा है। 

देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

संबंधित समाचार

क्या महिलाओं को शांति से जीने का अधिकार नहीं है