रामनाथ कोविंद बनाम मीरा कुमार
रामनाथ कोविंद बनाम मीरा कुमार

अब भले ही सत्ता और विपक्ष दोनों आम सहमति न हो पाने के ठीकरे फोड़ते हुए एक-दूजे को कोस रहे हैं, समझने की बात यह है कि अगर यह 'विचारधारा की लड़ाई’ है

देशबन्धु
2017-06-25 23:40:29
छोड़ो कल की बातें
छोड़ो कल की बातें...

मजेदार बात यह कि अपने ही आर्थिक चरित्रवाली सत्ता को अपदस्थ कर उसकी कार्बन कापी ने सत्ता पाया और वही, उसी वर्ग चरित्र की सत्ता आपातकाल को याद कर ल...

प्रभाकर चौबे
2017-06-25 23:33:05
बढ़ते अपराध
बढ़ते अपराध

जिस समय बड़े ही जि़म्मेदार व कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारियों के हाथों में कानून व्यवस्था की बागडोर हुआ करती थी

देशबन्धु
2017-06-25 01:26:37
मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सा बिल 2016
मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सा बिल 2016

केन्द्र और राज्य सरकारें दोनों स्तरों पर मानसिक स्वास्थ्य के विशेष संस्थान स्थापित करेंगी जो नागरिकों के मानसिक रोगों की चिकित्सा के लिए हर सम्भव...

देशबन्धु
2017-06-25 01:11:38
राष्ट्रपति के रूप में प्रणब मुखर्जी  एक सुखद अनुभवों वाला कार्यकाल
क्या ताजमहल भारतीय संस्कृति का भाग नहीं है
क्या ताजमहल भारतीय संस्कृति का भाग नहीं है?

पिछले कुछ दशकों में हिन्दू राष्ट्रवादियों के उदय के साथ, और विशेषकर पिछले तीन सालों में, संस्कृति की हमारी समझ को सांप्रदायिक रंग देने के प्रयास ...

देशबन्धु
2017-06-24 01:24:36
योग को कर्म के कौशल से जोड़िए 
योग को कर्म के कौशल से जोड़िए 

एक समय हमारे देश, और देश ही क्यों, दुनिया भर में व्यक्ति का बल ही उसकी सर्वोच्चता के निर्धारण में निर्णायक हुआ करता था

शीतला सिंह
2017-06-23 00:51:30
आपातकाल के सबक
आपातकाल के सबक

मोदी सरकार को यह भी ध्यान रखना होगा कि देश में कई इलाकों में बढ़ रहे विरोध को दबाने के लिए अगर आपातकाल जैसी कोई तरकीब निकाली गई तो इतिहास को पता है

शेष नारायण सिंह
2017-06-23 00:45:54
अब स्वच्छता रक्षकों’ की गुंडागर्दी
अब स्वच्छता 'रक्षकों’ की गुंडागर्दी

यह भी सिर्फ संयोग ही नहीं है कि मोदी राज में छेड़े गए स्वच्छता अभियान में शुरू से ही आम तौर पर भी जैसा जोर नेताओं के झाडू हिलाने के नुमाइशी आयोजन...

राजेंद्र शर्मा
2017-06-22 02:45:42
शिक्षा और परीक्षा-2
शिक्षा और परीक्षा-2

आज यदि विश्व में हमें सचमुच अपना रुतबा कायम करना है तो उसके लिए सबसे पहली शर्त शिक्षा में स्वायत्तता लाने की है

ललित सुरजन
2017-06-22 02:39:48
ट्रम्प क्यूबा और साम्राज्यवाद का पुनरागमन
ट्रम्प क्यूबा और साम्राज्यवाद का पुनरागमन

अपने प्रचार के समय से ही राष्ट्रपति ट्रम्प कास्त्रो विरोधी रहे हैं

देशबन्धु
2017-06-21 01:12:29
गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स की अनिश्चित दिशा
गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स की अनिश्चित दिशा

आस्ट्रेलिया में जीएसटी का गरीब पर बोझ ज्यादा पड़ा है। जीएसटी के कारण गरीब को अपनी आय का 4.4 प्रतिशत अधिक टैक्स देना पड़ा जबकि अमीर को मात्र 1.4 प...

डॉ. भरत झुनझुनवाला
2017-06-21 01:07:45
गोरखालैंड राज्य के लिए फिर उबाल
गोरखालैंड राज्य के लिए फिर उबाल

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के नेता बिमल गुरुंग अभी भूमिगत हो गए हैं, जबकि उनकी पार्टी के अनेक नेता और कार्यकर्ता गिरफ्तार हो चुके हैं

देशबन्धु
2017-06-19 23:59:18
कर्ज एवं आत्महत्या से मुक्ति हेतु सामुदायिक कृषि
कर्ज एवं आत्महत्या से मुक्ति हेतु सामुदायिक कृषि

औद्योगिक विकसित देश जापान के लिए किसानों की उपज को उच्च मूल्य पर खरीदना आसान है

डॉ. हनुमंत यादव
2017-06-19 23:53:48
गांधी की जाति और कांग्रेस की विचारधारा
गांधी की जाति और कांग्रेस की विचारधारा

श्री शाह के इस दावे में कोई दम नहीं है कि कांग्रेस, सिद्धांतविहीन संगठन थी। सच यह है कि राष्ट्रीय आंदोलन और कांग्रेस की जड़ें, भारतीय राष्ट्रवाद,...

देशबन्धु
2017-06-19 00:20:06
मेरा दरद न जाने कोय किसान
मेरा दरद न जाने कोय... किसान

किसानों की समस्या आसमान से नहीं टपकी है। किसानों की समस्या 'किसान’ द्वारा पैदा नहीं की गई है

प्रभाकर चौबे
2017-06-19 00:08:51
कृषि क्यों मांग रही बलिदान
कृषि क्यों मांग रही बलिदान

यह बात समझ से परे है कि मंदसौर में हुई हिंसा के अगले ही दिन किसानों की मांगों को न्यायोचित क्यों और कैसे मान लिया गया

चिन्मय मिश्र
2017-06-17 00:39:38
कृषि में गंभीर सुधार करने की जरूरत
कृषि में गंभीर सुधार करने की जरूरत

किसानों की समस्या हल करने में राजनीति भी कम नहीं होती है

देशबन्धु
2017-06-16 23:43:11
अलग गोरखालैंड के असल इरादे
अलग गोरखालैंड के असल इरादे

क्या दार्जिलिंग हिल्स में यह सारी लड़ाई नेपाली भाषा और गोरखा अस्मिता को लेकर लड़ी जा रही है? इसकी जड़ में जाएं, तो सबसे बड़ा खेल आर्थिक है, जिस प...

पुष्परंजन
2017-06-16 23:37:19
क्यों मिले अवमानना के खिलाफ दंड का न्यायिक अधिकार
क्यों मिले अवमानना के खिलाफ दंड का न्यायिक अधिकार?

अभी तक इन संवैधानिक संस्थानों की ओर से चुनाव आयोग जैसी कोई मांग भी नहीं उठी है

शीतला सिंह
2017-06-15 22:56:46
किसान आन्दोलन और विपक्षी एकता तय करेगी भावी राजनीति की दिशा
किसान आन्दोलन और विपक्षी एकता तय करेगी भावी राजनीति की दिशा

भाजपा को मंडल कमीशन से लाभ पाने वाली जातियों की एकता हमेशा परेशान करती रही है

शेष नारायण सिंह
2017-06-15 22:45:15