भारत-इंडोनेशिया भ्रष्टाचार से मिलकर लड़ेंगे

राजीव रंजन श्रीवास्तव : भारत के प्रधान मंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और इंडोनेशिया के राष्ट्रपति डॉ. सुसिलो युधोयोनो के बीच द्विपक्षीय वार्ता में दोनों देशों ने आपसी सामरिक भागीदारी पर जोर दिया। इस दौरान दोनों देशों के बीच छह अहम समझौतों पर सहमति हुई। ...

राजीव रंजन श्रीवास्तव

राजीव रंजन श्रीवास्तव
छह मुद्दों पर बनी सहमति

 जकार्ता !   भारत के प्रधान मंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और इंडोनेशिया के राष्ट्रपति डॉ. सुसिलो युधोयोनो के बीच द्विपक्षीय वार्ता में दोनों देशों ने आपसी सामरिक भागीदारी पर जोर दिया। इस दौरान दोनों देशों के बीच छह अहम समझौतों पर सहमति हुई। भारत व इंडोनेशिया ने हिंद महासागर में चीन के बढ़ते दबदबे को रोकने पर चर्चा की गई। जिन मुद्दों पर सहमति बनी, उनमें स्वास्थ्य सेवाएँ, भ्रष्टाचार निरोधक गतिविधियों में सहयोग, नशीले पदार्थों पर लगाम, आपदा प्रबंधन, राष्ट्रीय प्रशासनिक सेवाओं में सहयोग और आर्थिक भागीदारी जैसे मुद्दे प्रमुख हैं। इन समझौतों पर भारत की ओर से विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद और जकार्ता में भारत के राजदूत गुरजीत सिंह तथा इंडोनेशिया के राष्ट्रपति के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किए।
दोनों देशों ने भ्रष्टाचार से निपटने के लिए भारत के केंद्रीय सतर्कता आयोग और इंडोनेशिया की सतर्कता एजेंसी के बीच सहयोग संबंधी एक अन्य सहमति पत्र भी हस्ताक्षर किए। दोनों देशों ने मादक पदार्थों की तस्करी और आपदा प्रबंधन संबंधी एक-एक समझौते पर श्री सिंह और श्री युधोयोनो की उपस्थिति में हस्ताक्षर किया। इससे पहले आज सुबह दो अन्य समझौतों पर हस्ताक्षर किये गये थे .जो विश्व मामलों की भारतीय परिषद (आईसीडव्ल्यूए) और लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी और इनके समतुल्य संगठनों से संबंधित हैं। भारत और इंडोनेशिया ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में भी साथ-साथ मिलकर काम करने की जरुरत पर चर्चा की, इस बात पर भी चर्चा की गई, कि आने वाले समय में इंडोनेशिया के उपग्रह इसरो के मार्फत अंतरिक्ष में भेजे जाएं। दोनों देशों में इस बात पर सहमति बनी, कि दोनों देशों के विदेश मंत्री द्विपक्षीय मुद्दों पर लगातार बातचीत करते रहेंगे। साथ ही एक संयुक्त कार्यबल का गठन किया जाएगा, जो शिक्षा, पर्यटन, कोयला, गैस व तेल, कृषि, आतंकवाद व विज्ञान एवं तकनीकि के क्षेत्र में काम करेगा। दोनों देशों में परमाणु ऊर्जा के शांति पूर्ण उपयोग पर भी सहमति बनी। आने वाले समय में दोनों देशों की सेनाएं संयुक्त अभ्यास करेंगी, साथ ही आतंकवाद, नशीले पदार्थों की तस्करी, मानव तस्करी व साईबर अपराध को रोकने के लिए दोनों देश ने साथ काम करने पर सहमति जताई। दोनों देशों का व्यापार 2015 तक 25 बिलियन डॉलर तक पहुंचाने पर सहमति बनी, साथ ही यह तय किया गया, कि एक उच्च स्तरीय टास्क फोर्स बनाया जाएगा, जो व्यापारिक समझौतों के क्रियान्वयन पर नजर रखेगा। कृषि के क्षेत्र में भी संयुक्त कार्यदल गठित करने पर सहमति बनी है। साथ ही यह भी सहमति बनी है, कि खाद्य सुरक्षा की दिशा में दोनों देश मिलकर काम करेंगे। एक दूसरे की संस्कृति के आदान- प्रदान पर भी सहमति दोनों देशों में बनी। इंडोनेशिया ने शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार की मदद पर आभार जताया, साथ ही नालंदा विश्व विद्यालय के विकास में हर प्रकार के सहयोग का वादा किया।

देशबंधु से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.

Deshbandhu के आलेख